उन्नाव सड़क हादसा: सीबीआई की चार्जशीट में सेंगर समेत सभी अभियुक्त हत्या के आरोप से बरी

kuldeep-singh-file
  • 12 अक्तूबर 2019
कुलदीप सेंगरइमेज कॉपीरइटFACEBOOK/IKULDEEPSENGAR

केन्द्रीय जांच एजेंसी यानी सीबीआई ने उन्नाव सड़क हादसे में विधायक कुलदीप सिंह सेंगर और कुछ अन्य अभियुक्तों के ख़िलाफ़ शुक्रवार को अदालत में चार्जशीट पेश कर दी. चार्जशीट में इसे हत्या की कोशिश या षड्यंत्र का मामला नहीं बल्कि महज़ एक हादसा बताया गया है.

जुलाई महीने में हुई इस दुर्घटना में रेप पीड़ित लड़की और उसके वकील गंभीर रूप से घायल हो गए थे जबकि कार में सवार उसके दो रिश्तेदारों की मौत हो गई थी.

सीबीआई के एक प्रवक्ता ने बताया कि इस मामले में अभियुक्तों के ख़िलाफ़ एफ़आईआर में लगा हत्या का आरोप हटा दिया गया है.

प्रवक्ता के मुताबिक, कुलदीप सिंह के ख़िलाफ़ आईपीसी की धारा 120 (बी) के तहत आपराधिक षड्यंत्र रचने और ट्रक ड्राइवर आशीष कुमार पाल के खिलाफ धारा 304, 279 और लापरवाही से गाड़ी चलाने जैसे आरोप लगाए गए हैं.

सीबीआई के प्रवक्ता ने बताया कि इस मामले में सीबीआई को ऐसे कोई साक्ष्य नहीं मिले जिससे कि इसे ‘हत्या की कोशिश’ या फिर ‘हत्या का षड्यंत्र’ साबित किया जाता.

कार दुर्घटनाइमेज कॉपीरइटANUBHAV SWARUP YADAV
Image captionट्रक की टक्कर के बाद कार की हालत

इसी साल 28 जुलाई को हुए इस हादसे में सीबीआई ने तत्कालीन बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर और उनके कई साथियों पर कथित तौर पर हत्या की साज़िश रचने, लड़की की हत्या का प्रयास करने और साक्ष्य मिटाने की कोशिश जैसे संगीन आरोपों के तहत मामला दर्ज किया था.

पीड़ित लड़की ने विधायक कुलदीप सेंगर पर रेप का आरोप लगाया था जिसकी जांच सीबीआई पहले से ही कर रही है.

28 जुलाई को रायबरेली में तेज़ रफ़्तार से जा रहे एक ट्रक ने पीड़ित लड़की की कार को टक्कर मार दी थी जिसमें लड़की के अलावा उसके चाचा, चाची और मौसी के अलावा उनके वकील भी सवार थे.

हादसे में पीड़ित लड़की की चाची और मौसी की तुरंत मौत हो गई थी जबकि पीड़ित लड़की और उसके वकील गंभीर रूप से घायल हो गए थे.

टक्कर मारने वाला ट्रकइमेज कॉपीरइटANUBHAV SWARUP YADAV
Image captionटक्कर मारने वाला ट्रक

पीड़ित लड़की का दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान में इलाज चल रहा था. इलाज के दौरान ही सीबीआई के सामने उसने अपना बयान भी दर्ज कराया था.

पीड़ित लड़की की मां ने मीडिया से बातचीत में सीधे तौर पर इस हादसे को षड्यंत्र बताया था और इसके पीछे विधायक कुलदीप सिंह सेंगर का हाथ होने का आरोप लगाया था.

साल 2017 में कुलदीप सिंह सेंगर के गांव की ही एक लड़की ने उन पर बलात्कार का आरोप लगाया था. लड़की ने पुलिस पर शिकायत दर्ज न करने का आरोप लगाते हुए लखनऊ में मुख्यमंत्री आवास के बाहर आत्महत्या की कोशिश की थी.

उसके अगले ही दिन लड़की के पिता की पुलिस हिरासत में संदिग्ध मौत हो गई. पीड़ित पक्ष ने आरोप लगाया कि ऐसा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर के इशारे पर हुआ.

उन्नाव रेप पीड़िता की मां
Image captionउन्नाव रेप पीड़िता की मां

यह मामला सुर्खियों में आने के बाद इलाहाबाद हाईकोर्ट ने हस्तक्षेप किया जिसके बाद राज्य सरकार ने इसकी जांच सीबीआई से कराने के निर्देश दिए.

इसी मुक़दमे के सिलसिले में गत 28 जुलाई को पीड़ित लड़की अपने वकील व परिवार के अन्य सदस्यों के साथ रायबरेली जा रही थी, उसी समय यह दुर्घटना हुई.

पीड़ित लड़की और उसके वकील का पहले लखनऊ के ट्रॉमा सेंटर में इलाज हुआ, उसके बाद दोनों को दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान लाया गया.

सुप्रीम कोर्टइमेज कॉपीरइटGETTY IMAGES

पिछले महीने दोनों को एम्स से छुट्टी मिली लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने पीड़ित लड़की की दिल्ली में ही रहने की व्यवस्था करने का सरकार को निर्देश दिया है.

इस हादसे के बाद सुप्रीम कोर्ट ने पीड़ित लड़की और उसके परिजनों को सीआरपीएफ़ की सुरक्षा देने के निर्देश दिए थे.

Source:-https://www.bbc.com/hindi/india-50022741

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *